राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी प्रबंधन सूचना प्रणाली

एन एस टी एम आई एस, डी एस टी का एन एस टी एम आई एस देश में विज्ञान व प्रौद्योगिकी से जुड़े संसाधनों की जानकारी का संग्रह करने, तुलना करने, विश्लेषण करने तथा प्रसार करने के लिए उत्तरदायी है।

देश के सामाजिक, आर्थिक और भौतिक विकास में, विज्ञान और प्रौद्योगिकी से जुड़ी गतिविधियां महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। विज्ञान व प्रौद्योगिकी अनुसंधान में भारी निवेश की आवश्यकता होती है और इसमें धनराशि, मानव संसाधन तथा कच्चा माल जैसे दुर्लभ संसाधनों का उचित उपयोग किया जाना चाहिए। इसलिए संसाधन से जुड़ी जानकारी के आंकड़ों का संग्रह व विश्लेषण बहुत महत्वपूर्ण है। विज्ञान व प्रौद्योगिकी का विकास, इसका प्रदर्शन तथा समाज व अर्थव्यवस्था पर प्रभाव ऐसे संकेतक हैं जो योजना व नीति निर्माण की प्रभावशीलता का मूल्यांकन कर सकते हैं।

राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी प्रबंधन सूचना प्रणाली (एन एस टी एम आई एस), विज्ञान व प्रौद्योगिकी विभाग का एक प्रभाग है जिसे देश में नीति निर्माण के लिए विज्ञान व प्रौद्योगिकी से जुड़ी गतिविधियों के लिए आवश्यक संसाधनों की जानकारी का आधार तैयार करने का कार्य सौंपा गया है।

गतिविधियां

एन एस टी एम आई एस मुख्यतः दो प्रकार की अनुसंधान गतिविधियां करता है -

  • प्रभाग के अंदर अनुसंधान
  • प्रायोजित अनुसंधान

प्रभाग के अंदर अनुसंधान

  • देश में विज्ञान व प्रौद्योगिकी गतिविधियों के लिए समर्पित संसाधनों का राष्ट्रीय सर्वेक्षण
  • बाहरी (प्रायोजित) आर एंड डी परियोजनाओं पर राष्ट्रीय स्तर का डेटाबेस तैयार करना

प्रभाग में किये गए अनुसंधान के परिणाम के आधार पर एन एस टी एम आई एस निम्न परिपत्रों का प्रकाशन करता है –

  • अनुसंधान व विकास सांख्यिकी
  • उद्योग में अनुसंधान व विकास
  • एस एंड टी डेटा पुस्तिका
  • आर एंड डी संस्थानों की निर्देशिका
  • बाहरी आर एंड डी परियोजनाओं की निर्देशिका

प्रायोजित अनुसंधान

हालांकि एस एंड टी गतिविधियों के इनपुट संसाधनों से जुड़े कुछ आंकड़ों को प्रभाग में ही विश्लेषित किया जाता है लेकिन इस बात की आवश्यकता महसूस की गई कि इच्छुक व्यक्तियों / संगठनों को इस कार्यक्रम से प्रायोजित परियोजना के तहत जोड़ा जाए। इसका उद्देश्य कार्यक्रम को व्यापक बनाना है और विज्ञान व प्रौद्योगिकी के संकेतकों को उपलब्ध कराना है। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए सातवीं पंचवर्षीय योजना (1985-90) में इस कार्यक्रम के स्वरूप को विस्तार दिया गया और इसमें निम्न को शामिल किया गया –

  • आर एंड डी संसाधनो, परियोजनाओं, संस्थानों, विशेषज्ञों, उपकरणों व अन्य अवसंरचना-सुविधाओं से जुड़े डेटाबेस का निर्माण, अद्यतन और प्रसार करना।
  • एस एंड टी संकेतकों का विकास।
  • आर एंड डी प्रबंधन और नीतिगत मामलों से संबंधित विभिन्न आयामों का अध्ययन।
  • एस एंड टी के नए उभरते हुए क्षेत्रों में वैज्ञानिक मानव संसाधनों की विभिन्न श्रेणियों के दीर्घावधि और अल्पअवधि आवश्यकताओं का आकलन।
  • एस एंड टी कर्मियों के रोजगार और उत्पादन के बीच विसंगति का अध्ययन करना।
  • विभिन्न एस एंड टी आयामों पर आधारित आर एंड डी परियोजनाओँ को सहायता प्रदान करना।

अब तक एस एंड टी के विभिन्न आयामों पर आधारित 125 से अधिक परियोजनाओं को विभिन्न संस्थानों / संगठनों के लिए प्रायोजित किया गया है। इनमें से पूरी हुई 85 परियोजनाओं की रिपोर्ट प्रकाशित की जा चुकी है।

प्रस्तावों का आमंत्रण (2017-18) - मानव और संगठन संसाधन विकास केन्द्र (सी एच ओ आर डी प्रभाग)

नई पहल

नवाचार या नवोन्मेष किसी देश की समृद्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इस महत्व को देखते हुए भारत सरकार ने एक नई पहल की शुरूआत की है – ज्ञान रूपरेखा का विज्ञान, प्रौद्योगिकी , नवाचार और निर्माण (एस टी आई सी के)। राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों से गहन परिचर्चा के आधार पर राष्ट्रीय नवाचार सर्वेक्षण फ्रेमवर्क तैयार किया गया है और एस टी आई सी के कार्यक्रम कार्यान्वयन में इसका उपयोग किया जाएगा। एस टी आई सी के कार्यक्रम के सम्बन्ध में अधिक जानकारी के लिए राष्ट्रीय नवाचार सर्वेक्षण का लिंक देखें।

एस टी आई सी के कार्यक्रम के सम्बन्ध में अधिक जानकारी के लिए राष्ट्रीय नवाचार सर्वेक्षण का लिंक देखें। नेशनल इनोवेशन सर्वे

संपर्क

एस एंड टी सांख्यिकी और संकेतकों के लिए एन एस टी एम आई एस प्रभाग यूनेस्को, एनएसएफ, ओईसीडी आदि संगठनों से घनिष्ठ संबंध बनाए रखता है। एसएंडटी सांख्यिकी में अवधारणाओं के मानकीकरण तथा उपयोग की जाने वाली शब्दावली विषय पर यूनेस्को विभिन्न कार्यशालाओं का आयोजन करता है और इसके लिए यूनेस्को, एन एस टी एम आई एस के अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपता है। एन एस टी एम आई एस की विशेषज्ञता को चीन और त्रिनिदाद तथा टोबैगो जैसे देशों के साथ भी साझा किया गया है। विज्ञान सांख्यिकी से संबंधित जानकारी के आदान-प्रदान के लिए एन एस टी एम आई एस विभिन्न संस्थानों से निरंतर विचार-विमर्श करता है। ये संस्थान हैं – योजना आयोग, प्रयुक्त मानव संसाधन शोध संस्थान, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, भारतीय उद्योग परिसंघ तथा अन्य वैज्ञानिक संस्थान।

परियोजना सूची – वर्षवार

 

2004-05[PDF]10.96 KB 2005-06[PDF]9.75 KB 2006-07[PDF]15.43 KB 2007-08[PDF]20.99 KB 2008-09[PDF]21.5 KB
2009-10[PDF]9.01 KB 2010-11[PDF]9.65 KB 2011-12[PDF]10.13 KB 2012-13[PDF]7.93 KB 2013-14[PDF]14.79 KB
2014-15[PDF]137.39 KB 2015-16[PDF]15.09 KB 2016-17[PDF]233.86 KB    
टीम
क्रमांक संख्या नाम संपर्क करें ईमेल
1. डॉ. परवीन अरोड़ा
(प्रमुख और सलाहकार )
011-26590331
011-26523432
parora[at]nic[dot]in
2. डॉ. ए.एन. राय (Sc-'F') 011-26590267 011-26519518 anrai[at]nic[dot]in
3. डॉ. एच. बी. सिंह (एस सी-'ई )   011-26590673 haribsingh[at]nic[dot]in

अधिक जानकारी के लिए एन एस टी एम आई एस वेबसाइट देखें यहां क्लिक करे

एन एस टी एम आई एस प्रकाशन :

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें:

डॉ. प्रवीण अरोड़ा
प्रमुख और सलाहकार
विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग
प्रौद्योगिकी भवन
न्यू महरौली रोड
नई दिल्ली-110016
टेली: 011-26590331
टेलीफैक्स: 011-26523432
ईमेल: parora[at]nic[dot]in